थप्पड़ के बहाने....प्यारी बहनों, अपने अधिकार लेना सीखिए और सजा देना सीखिए

 

भारतीय समाज में औरतों के साथ मारपीट, उनको कैद में रखना...या उनको मार डालना कोई नयी बात नहीं है। औरतें इसकी अभ्यस्त हैं मगर अब जाकर उनको पता लग रहा है कि वह जिस बात को सामान्य मानती आ रही थीं...वह सामान्य नहीं बल्कि उनका उत्पीड़न था। हाँ, आज घरेलू हिंसा पर ही बात करूँगी...महिलाओं के प्रति अपराध पर फिल्में बनाना फिल्मकारों के लिए ग्लैमर, सफलता और नाम कमाने की गारंटी देता है...कई अच्छी फिल्में बनीं भी हैं। कविताओं से लेकर किताबों में और किताबों से लेकर सिनेमा के सुनहरे पर्दे पर माँ, पत्नी और बहू की पीड़ा और प्रतिशोध बॉलीवुड का प्रिय विषय है...इस पर हाल ही में आई थप्पड़...खामोशी से बात करने वाली अलग सी फिल्म लगी...मुझे अच्छी लगी...तापसी का खामोश न रहकर प्रतिकार करना अच्छा लगा मगर पता नहीं क्यों...फिल्म देखते - देखते सवाल भी मन में उठा...घरेलू हिंसा को देखने और उसके प्रतिरोध को दर्ज करने की दिशा में हो रहे काम इतने एकांगी क्यों हैं? अगर ससुराल में बहू को दबाया जाना, उसके सपनों को मारना, उसके साथ गलत व्यवहार करना गलत है तो बेटी या बहन के साथ होने वाला ऐसा ही व्यवहार न्यायोचित और सामान्य क्यों और कैसे हो जाता है? ऐसा क्यों होता है कि इसके खिलाफ आवाज उठाने वाली लड़की को ही कठघरे में खड़ा होना पड़ता है और उसके साथ खुद उसकी माँ भी खड़ी नहीं होती...घरलू हिंसा का दोषी दामाद अगर गलत है तो बहन पर हाथ उठाने वाला भाई या पिता सही कैसे है? हम लड़कियों को कंट्रोल में रखने की शुरुआत यहीं से होती है...। यह सही है कि स्थिति सुधरी है और आज बहुत से भाई ऐसे भी हैं जो बहनों को सुनते हैं, समझते हैं, पर ये जानना चाहती हूँ कि आखिर बहनों की शादी पर ही इतना फोकस क्यों रहता है...क्या अपने कभी भाइयों की शादी पर किसी को फोकस करते हुए सुना है। हद तो तब है राजनीतिक क्षेत्रों में भी स्त्री के अस्तित्व और आत्मनिर्भरता पर शादी का प्रश्न भारी पड़ता है। हममें से  कौन नहीं जानता कि भाईयों का एक बड़ा तबका अपनी बहनों को किस तरह कमतर समझकर दबाता है....उनके खिलाफ षडयंत्र करता है...बहन की शिक्षा से लेकर नौकरी और प्रेम के अधिकार पर वह षडयंत्र रचता है और उसे पूरे घर का समर्थन मिलता है। घरों में बहनों को भीतर धकेलने वाले हाथ वही होते हैं जिन पर वह अपनी सुरक्षा के लिए राखी बाँधती आ रही थीं...लेकिन इसे लेकर अजीब सी खामोशी है...। हममें से अधिकतर लड़कियों का बचपन यही सुनने में बीता है कि वह अधिक न खाये,..वजन कम करे...ऊँची जबान में बात न करे...मेहमानों के सामने न जाये...और हम लड़कियों ने बगैर सवाल किये मान भी लिया? अपने अधिकार छोड़ते हुए और अपने सपनों को मरते देखकर भी हम कैसे ऐसे भाइयों से प्यार कर लेती हैं...? क्या एक बार भी आपने उस दर्द को याद किया है जो कभी ऐसे भाई, पिता या चाचा के कारण हुआ होगा....आखिर अन्याय को अपनी नियति क्यों मान लेती हैं लड़कियाँ और इस पर सब खामोश हैं? क्या कभी आपने सोचा है कि बहनों की शादियों पर पितृसत्ता इतना फोकस क्यों करती है और क्यों फिल्मों से लेकर इतिहास और साहित्य में बहनों के चरित्र को उभरने नहीं दिया गया, क्यों उसे पीड़िता बनाया गया... कारण यह है कि बहनें टकराना जानती हैं तो पितृसत्ता का पहला नियम ही है कि जो टकराना चाहे, उसे हाशिये पर डालो...या उसके आत्मविश्वास तथा आत्मसम्मान को ऐसे कुचले कि कोई और स्त्री उसके लिए खड़ी होने की हिम्मत न कर सके। यही कारण है द्रोपदी, गार्गी...बस नाम बनकर रह जाती हैं और अत्याचार सहकर मर जाने वाली औरतों को देवी बनाकर या माता बनाकर पूजा जाता रहा है। हम सबको जरूरत है कि मजबूत स्त्रियों की जो हमारी प्रेरणा बनें...जो सवाल करना सिखाएं न कि आग में कूदकर मर जाना सिखाए। जब पंचकन्याओं में द्रोपदी और कुन्ती को स्थान मिला है तो वे हमारे उपासना गृहों में क्यों नहीं हैं...कारण यही है कि उनको स्वीकृति देना...अपनी सत्ता को कमजोर करना है।  जब बात सुरक्षा की है तो क्या हमेशा पुरुष या पति ही रक्षा नहीं करता है क्योंकि ऐसा होता तो वीर पांडवों के रहते द्रोपदी का वस्त्रहरण ही नहीं होता और  हम द्रोपदी के सवाल और आत्मबल को भूल गये। शिवाजी को शिवाजी तो जीजाबाई ने बनाया...माताओं की महिमा से इनकार नहीं है मगर बहनों को अधिकार, सम्मान और केन्द्र देना तो आवश्यक है। 
सवाल यह भी कि  राखी जैसा त्योहार या कोई भी त्योहार जेंडर केन्द्रित कैसे हो सकता है...तो सुरक्षा तो एक स्त्री भी दूसरे स्त्री की कर सकती है तो वह क्यों नहीं दूसरी स्त्रियों को या फिर उस सकारात्मक उर्जा से भरे किसी भी व्यक्ति को राखी नहीं बांध सकती, जो सही मायने में उसका रक्षक है...वैसे भी वैदिक काल में गुरु औऱ शिष्य के बीच भी राखी बन्धन की परम्परा थी तो आज छात्राएं अपनी शिक्षिकाओं को राखी क्यों नहीं बांध सकती? मेरा मानना है कि ऐसा होना चाहिए क्योंकि इससे स्त्रियों के बीच बहनापा मजबूत होगा...और यह पितृसत्ता के मुँह पर एक करारा थप्पड़ होगा जो स्त्रियों को स्त्रियों का शत्रु बनाती रही है।

 घर...साहित्य,...सिनेमा....थियेटर...सब.....क्या अपने ही घर में बहनों को सम्मान के साथ जीने के लिए भाई की अनुमति चाहिए और वे होते कौन हैं अनुमति देने वाले? आखिर कोई माँ ऐसे बेटे के सिर पर हाथ रख भी कैसे देती है जिसने उसकी बेटी के चरित्र पर सवाल उठाया और उसे थप्पड़ लगाने की जगह उसके लिए खाना बनाती है....क्या यह किसी लड़की का अपमान नहीं है.. क्या बहनों का आत्मसम्मान नहीं होता या वह यह समझ बैठी है कि वह मिट्टी का कोई खिलौना है जिसे कभी भी ठोकर मारी जा सकती है....? मिट्टी का खिलौना भी एक समय के बाद ठोकर मारने पर दर्द दे सकता है...। इस मसले को लेकर फिल्म तो दूर कोई बात ही नहीं करता...हैरत है...एक यशपाल के झूठा - सच को छोड़ दें तो बता दीजिए कि साहित्य की कौन सी विधा बहनों के सम्मान या उनके साथ होने वाली घरेलू हिंसा पर बात करती है? किस फिल्मकार ने बहनों के साथ होने वाले अत्याचार पर फिल्म बनायी....? भाई भले ही अनपढ़...जाहिल हो....भले ही उसकी जुबान पर गालियाँ और सिर पर घमंड हो...लेकिन राज उसी को करना है जबकि काबिल तो आप भी थीं...रात भर जागकर पढ़ाई आपने भी की थी....। क्या भाई हमेशा संरक्षक ही होता है.? लगभग हर फिल्म में भाइयों को महान ही दिखाया जाता है जो बहनों की रक्षा करता है...हीरो की तरह उसकी इज्जत बचाता है....60 -70 के दशक से लेकर अब तक की फिल्मों में बहनों के हिस्से में क्या आया है...वह एक पीड़िता है और भाई उसका रक्षक मगर हम सब जानते हैं कि असल दुनिया ऐसी नहीं है....यहाँ भाई की आँख का पानी मर गया है...उसे शर्म नहीं आती जब वह अपनी बहन का कटा सिर लेकर गर्व से थाने में जाता है कि उसने बहन को प्रेम करने की सजा देकर खानदान की इज्जत बचा ली...वह खुद को भगवान समझ बैठता है जो कुछ भी कर सकता है....उसके लिए बहन या बेटी छुपाने की चीज है...या ब्याह कर शान दिखाने की चीज है...यह भी कि उसे ब्याहकर वह यह बताना नहीं भूलता कि बहन या बेटी की शादी में कितना खर्च कर चुका है...या लड़का देखने के लिए उसने कितनी तकलीफें उठायीं....वह यह नहीं कहता कि उसने इमोशनल ब्लैकमेलिंग कर बहन की नौकरी छुड़वायी और उसकी तकदीर ससुराल वालों के भरोसे छोड़ दी...कभी सोचिएगा कि बहनों की शादी को फिल्मों में इतना ग्लैमराइज क्यों किया जाता है...बहनें हमारी फिल्मों से लेकर साहित्य में बराबरी के दर्जे पर कहीं नहीं हैं....घर की बेटी होने के बावजूद उसे सम्पत्ति में से हक नहीं मिलता...अब जब कि सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया कि सम्पत्ति पर उनका बराबर का अधिकार है...याद कीजिए कि पुरुषों की प्रतिक्रिया क्या थी...?  भावनात्मक होने का मतलब अपने अधिकार दान में देना नहीं होता...मैंने पहले भी पूछा था...आज भी पूछती हूँ जब भाई - भाई में बँटवारे को लेकर विवाद सामान्य है तो बहनों का हक माँगना गुनाह कैसे है...जब भाइयों की शादी से पैतृक सम्पत्ति के अधिकार पर फर्क नहीं पड़ता तो बहनों की शादी से उनका पैतृक सम्पत्ति पर अधिकार कम कैसे हो जाता है। लड़कियाँ भूल गयी हैं कि वह इन्सान हैं....उनके अधिकार और मानवाधिकार भी हैं...और अधिकार ट्रॉफी की तरह दान में नहीं दिये जाते...हो सकता है कि वह चीजों को बेहतर तरीके से सम्भाल लें....क्या उनकी शिक्षा...उनके अनुभव का उपयोग बेहतर को बेहतरीन बनाने में नहीं हो सकता और क्यों नहीं होना चाहिए....? 


देखा जाये तो शांता राम से बड़ी थीं....अयोध्या के सिंहासन पर अधिकार उनका ही था मगर हमने कभी इस नजरिए से सोचा ही नहीं...अधिकार कभी माँ तो कभी पत्नी या कभी बेटी के हिस्से आए...बहनों को क्या मिला? फिल्में भाइयों को देवता बनाती हैं तो बहनों को देवी बना दिया जाता है...मगर अपने घर के पितृसत्तात्मक समाज से टकराती बहन नहीं दिखायी देती..कभी कल्पना कीजिएगा जब उनके हाथ से किताब छुड़वायी जाती है तो उनको कितना दर्द होता होगा...कल्पना कीजिए कि जिस आसमान पर उनका हक था....उनके पंख काटकर पिंजरे में फेंका गया होगा...तो वह कितना तड़पी होंगी....। सबसे अधिक शर्म की बात यह है कि ऐसे भाइयों और पिता को शर्म तो जरा भी नहीं होती बल्कि वह उस लड़के के प्रिय या नौकरी को उससे छीनकर इस बात पर इतराता है कि उसने घर की इज्जत बचा ली....? पिता की सम्पत्ति से उसे बेदखल किया जाता है और एक कोने में कबाड़ की तरह रखा जाता है जिससे उसका आत्मविश्वास टूट जाये....और फिर उसकी शादी की जाये....क्या यह अत्याचार नहीं है और अगर है तो फिर इसकी सजा क्यों नहीं है? यह हर उस लड़की के साथ होता है जो अपने सपनों को जीना चाहती है और हर बात में उस की कोई औरत और कई बार शिक्षित औरतें भी उसे ताना मारती हैं कि 'अगर उसने शादी की होती'...या 'शादी हो जानी चाहिए'....तो ऐसी औरतों को मानसिक उत्पीड़न के जुर्म में जेल क्यों नहीं होनी चाहिए क्योंकि वह तो उस प्रताड़क का मनोबल बढ़ा रही है यानी उस अत्याचार में बराबर की भागीदार...तो उसे माफी क्यों दी जाये?  शादी करना या न करना...एक नितांत निजी मामला है तो क्या इसे जस्टीफाई किया जा सकता है कि शादी नहीं करने पर आप किसी को जेल में डाल दें...ये कुछ ऐसा नहीं है कि अपना बच्चा देख नहीं सकता तो सारे जमाने को अंधा करने की जिद पाल। अगर आपका बेटा उड़ना नहीं जानता तो उसे उड़ना सिखाइए...नहीं उड़ सकता तो रेंगने दीजिए मगर आपको कोई अधिकार नहीं उसे पंख देने के लिए आप अपनी बेटियों के पंख नोंच लें या इस काम में बेटों की मदद करें...आप बराबर की अपराधी हैं....।

महिलाएं देवियाँ नहीं होतीं....एक मनुष्य होती हैं और वह उतनी ही कठोर तथा अमानवीय हो सकती हैं जितने आपके खलनायक हो सकते हैं...इसलिए किसी भी अपराध को अपराध की तरह देखना जरूरी है.... तो घरेलू हिंसा की जो जड़ आप खोज रहे हैं...वह यहाँ पर है....।

सबसे बड़ा प्रश्न यह कि लड़कियाँ दूसरों की नजर से खुद को देखती ही क्यों है....क्यों नहीं उनके लिए बहनों का सम्मान उनका सम्मान होता है ? आखिर क्यों नहीं वह ऐसे भाइयों से बहन होने का, माँओं से बेटी होने का भाभियों से ननद होने का और भतीजियों से बुआ होने का अधिकार छीन लेतीं? ऐसी एक भी कलाई में राखी नहीं होनी चाहिए जिसने  आपके सपनों को नोंचा हो...थोड़ी सख्त बनिए....क्योंकि जब आप अधिकार छोड़ती हैं तो यह सिर्फ आपके साथ नहीं बल्कि पूरी पीढ़ी और पूरी दुनिया की लड़कियों के साथ अन्याय की आग में घी डालता है...दयालु बनना छोड़िए और बहिष्कार का अस्त्र उठाइए...हर उस पिता का..जो बेटी के सपनों को नोंचने में लगा है....हर उस भाई का जिसने अपनी बहन को अपमान का जहर दिया....हर उस माँ का जिसने चुपचाप तमाशा देखा भी और उसे बढ़ावा भी दिया... फिर भले ही ये आपके ही पिता, भाई या माँ क्यों न हों....जब तक जड़ यहाँ से नहीं उखाड़ी जाती....जब तक बात यहाँ से शुरू नहीं होती...हम आँकड़े गिनवाते रह जाएंगे मगर बदलेगा कुछ भी नहीं इसलिए अपने अधिकार लेना सीखिए और सजा देना सीखिए। मुझे उस दिन का इंतजार है जब हर लड़की अपना सम्मान करना सीखेगी....हर उस औरत का बहिष्कार करेगी जिसने गलत को बढ़ावा दिया है.... और हर उस हाथ से अपनी राखी छीनेगी...जिसने उसका या उसकी किसी बहन या अन्य स्त्री का अपमान किया है और यह पितृसत्ता के मुँह पर सबसे बड़ा थप्पड़ होगा.....मैं इंतजार में हूँ।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उड़ो तितलियों....आसमान से आगे उड़ो

देवी की जगह स्त्री को देखिए...महानता नहीं, सिर्फ करुणा ही दिखेगी

रेखा : आँधियों को आँखों की मस्ती से मात देती शम्मे फरोजा