संदेश

आखिर हम महिला मीडियाकर्मियों से आपको इतना भय क्यों है साहब?

चित्र
मैंने जब अपराजिता और शुभजिता शुरू की थी तो तय किया था कि यह लड़कियों की मीडिया में भागेदारी बढ़ाने का माध्यम बनेगी। इसका मतलब यह नहीं था कि मुझे लड़कों से लिखवाने या उनको टीम में लेने से आपत्ति थी बल्कि इसका कारण यह था कि मीडिया में लड़कियों की जगह पहले से ही बहुत कम है। अगर है भी तो उनको कोने में रखा जाता है मतलब फिलर की तरह..ताकि यह भ्रम बना रहे कि हम स्त्री विरोधी नहीं हैं क्योंकि हमारे मीडिया माध्यमों में लड़कियों की उपस्थिति को स्वीकार करने में हिचक है। मीडिया में रहते हुए यह पक्षपात पिछले 18 साल से देखती आ रही हूँ। निश्चित रूप से लड़कियों की जिम्मेदारी होती है और उनको अपने काम के साथ घर भी सम्भालना पड़ता है और इस वजह से उनके लिए उतना समय दे पाना सम्भव न होता मगर वे लगातार परिश्रम करती हैं। आज अगर महिलाएं काम कर रही हैं तो ऐसा नहीं है कि उनके लिए बहुत अधिक सुविधाएं दी जा रही हैं। यह जरूर है कि कुछ मीडिया संस्थानों में या कुछ सहकर्मियों की सदाशयता के कारण उनको छुट्टी मिलती है या कई बार उनकी परिस्थितियों को समझा जाता है मगर अधिकतर मामलों में लड़कियाँ यह ताना जरूर सुनती हैं कि '

रुढ़ियों का पिंजरा अगर सोने का भी हो तो भी वह पिंजरा ही है, उड़ान आसमान की होनी चाहिए

चित्र
वह घूंघट, हिजाब और परदे का समर्थन करते हैं क्योंकि उनको लगता है कि औरत बेशकीमती है और उस पर किसी की नजर नहीं पड़नी चाहिए। एक छोटा सा प्रश्न यह है कि औरतें बेशकीमती हैं तो पुरुष क्या हैं? पुरुष क्या कबाड़ हैं जो उनको यूँ ही भटकने के लिए खुली सड़क पर फेंक दिया जाए। गुलामी की जंजीर को अगर धर्म और समाज के नाम पर जेवर बनाकर पहन लिया जाए, तो भी वह जंजीर ही रहती है... आज मामला नौ सो चूहे खाय, बिल्ली हज को चली वाला हो गया है और उसके पीछे कहीं न कहीं सामाजिक और पारिवारिक स्वीकृति की चाह भी है और स्वीकृति के जरिए ही बड़े निशाने साधे जाते हैं। यही कारण हैं कि जींस पहनने वाली अभिनेत्रियाँ भी जनता के सामने जाते ही साड़ी पहनने लगती हैं। मजे की बात यह है कि पहनावा औरतों का, शरीर औरतों का, जीवन औरतों का और सिर फुटोव्वल मर्द कर रहे हैं। वह समाज औरतों को हथियार बनाकर लड़ रहा है जिसके मंच पर औरतों को देखा तक नहीं जाता। इस्लाम में बहुत कुछ गलत माना जाता है लेकिन आप वह सारे काम करती आ रही हैं और आपको कोई परहेज नहीं है लेकिन लोकप्रिय बनने के लिए और स्वीकृति के लिए आपने गुलामी को भी ग्लैमराइज करना शुरू क

बौद्धिक विमर्श से अधिक संवेदना का पर्व है छठ

चित्र
छठ पूजा मेरे लिए सिर्फ प्रकृति विमर्श है, यह यात्रा स्त्री विमर्श से आगे की है, याद रखिए हम सूर्य को पूजते हैं और छठी मइया उनकी बहन हैं माँ दुर्गा का कात्यायनी रूप और ये बात इस पर्व पर काफी कुछ पढ़ने के बाद कह रही हूँ, छठ स्त्री विमर्श का नहीं, जेंडर समानता का पर्व है, दिक्कत य़ह है कि कर्म कांड तो हम खूब करते हैं पर उसकी मूल बात नहीं पकड़ते.. जाति- वर्ण, सब कुछ कर्म से निर्धारित था, आपने सुविधा के लिए बर्थ राइट को आधार बना लिया, और राज करने लगे, भाग्य से कर्म नहीं बनते, आपका कर्म ही आपका भाग्य निर्माता है कर्म ही थे कि कर्ण को हम महारथी कहते हैं, किसी के घर में चांदी का चम्मच लेकर पैदा होना आपकी उपलब्धि नहीं है, आपने कोई तीर नहीं मारा, लेकिन अगर आप उस चम्मच का सदुपयोग करते हैं, उसका सुख वंचितों तक पहुंचाते हैं, तो वह आपका कर्म है, जमशेद जी टाटा, भाई हनुमान प्रसाद ,अजीम प्रेम जी . आज उदाहरण के लिए टाटा समूह को देखिए, मुझे उद्योगपति प्रेरित करते हैं, बहुत मुश्किल होता है अपना काम खड़ा करना... पर्व का सुख पूंजी के रास्ते ही आता है ...... रही हमारे स्त्री विमर्श क

किचेन पॉलिटिक्स.. शातिर घरेलू औरतों के खिलाफ मोर्चा खोलना जरूरी है

चित्र
किचेन पॉलिटिक्स...सुनने में बड़ा अजीब लगता था। रसोई और राजनीति..इनका क्या सम्बन्ध हो सकता है..रसोई में तो अन्नपूर्णा का निवास होता है। अब अन्नपूर्णा क्या जानें कि उनका प्रतिरूप कहलाने वाली स्त्रियाँ रसोई को हथियार बना सकती हैं और जिस भोजन को अमृत कहा जाता है, उसे अपने व्यंग्यबाणों से विष बनाने की कला भी जानती हैं। आमतौर पर इस देश में किसी भी गृहिणी को या तो बहुत उपेक्षा से देखा जाता है या फिर बहुत ही आदर से। इतना विश्वास या यूँ कहें कि अन्धविश्वास किया जाता है कि वह कुछ गलत कर सकती है या षडयंत्र रच सकती है...यह सोचना भी पाप लगता है लेकिन सत्य कुछ और है। यह स्त्रियाँ कुछ भी कर सकती हैं। वर्चस्ववादी राजनीति सिर्फ दफ्तरों या सियासत में नहीं होती बल्कि यह कहीं भी हो सकती है, घरों में हो सकती है और रसोई उसका शस्त्र होती है।  क्या अन्न का उपयोग ब्लैकमेलिंग के लिए, नीचा दिखाने के लिए या घर की सत्ता हासिल करने के लिए हो सकता है? हम विश्वास नहीं करना चाहते पर ये हो भी सकता है, होता है और होता चला आ रहा है। सास और ननदों से परेशान बहुओं को आप देखते आ रहे हैं...ससुराल में बेटियों का उत्पीड़न भी आप

अधिकार संरक्षण, स्नेह और करुणा से बनते हैं...सम्बन्धों के दावों से नहीं

चित्र
  मैथिलीशरण गुप्त की कविता है...माँ, कह एक कहानी...और उसमें अन्त में पँक्तियाँ हैं ...यशोधरा के प्रश्न के उत्तर में राहुल के माध्यम से कवि ने ये पँक्तियाँ कहलवायी हैं -  कोई निरपराध को मारे तो क्यों अन्य उसे न उबारे? रक्षक पर भक्षक को वारे, न्याय दया का दानी।"  भारत में परिवार का सम्बन्ध रक्त सम्बन्धों से लगाया जाता है,,,फिर भले ही वे कितने ही खराब क्यों न हों...उम्मीद की जाती है कि उनके हर जहर को व्यक्ति अमृत समझकर पी जाये...उनकी प्रताड़ना को अपना भाग्य समझकर स्वीकार कर ले...माँ तो माँ होती है...जैसे वाक्य...अब बहुत घिसे - पिटे हो गये हैं...मेरे लिए। ऐसा नहीं है कि संसार में माँ बुरी होती है...मनुष्य होती है...उसे उसी रूप में स्वीकार करना चाहिए। अच्छी बात है मगर मेरा सवाल यह है कि हर हाल में गलत को सही क्यों कहा जाना चाहिए? सम्बन्धों का सही अर्थ जीवन ने समझा दिया है..और अब मैं उसी रूप में स्वीकार कर रही हूँ। पता है कि परिवार व्यक्ति को ग्रांटेड क्यों लेता है क्योंकि वह मान लेता है कि लौटकर तो वह व्यक्ति उसी के पास आएगा...? बदलाव के लिए अब इस कहानी के अन्त को बदलना ही चाहिए...व्यक

बच्चों की जीत अगर आपकी हार है, तो आपको हार ही जाना चाहिए

चित्र
कहा गया है कि क्रोध नहीं करते..। क्रोध को काबू में रखो...संयम रखो...यह सभी सूत्र वाक्य घुट्टी भर - भर के पिलाये जाते हैं...खासतौर से लड़कियों के मामले में तो यह ज्ञान बहुत ही ज्यादा दिया जाता है और बच्चों के बारे में...उनके बारे में तो पूछिए ही मत। इस समय मेरे दिमाग में सवाल घूम रहे हैं...परेशान नहीं हूँ पर प्रश्न का उत्तर तलाशना भी तो जरूरी है। ऐसा क्यों है कि बड़ों का क्रोध सम्मान पाता है और छोटे जब क्रोध करें तो उसे अपमान समझा जाता है? बड़ी विकट परिस्थिति है न्याय की, युवा भारत में युवाओं की आवाज और इच्छाओं को दबाना इतना सामान्य क्यों मान लिया गया है। तथाकथित प्रतिष्ठा और अहंकार सिर्फ बड़ों को ही शोभा क्यों देते हैं?  छोटों ने अगर अपनी इच्छा से कोई कदम उठाया तो वह बड़ों को अपना अपमान क्यों लगती है?  यकीन मानिए कि घर वापसी की कामना के पीछे भी बेटी को सम्पत्ति मानने वाली प्रवृत्ति ही काम कर रही है...समाज में बेटे की नाक नीची हो गयी...तो माँओं को बड़ा दुःख होता है...ममतामयी माताएँ अचानक इतनी क्रूर और कठोर कैसे हो जाती हैं...यह तो बाकायदा शोध का विषय है। माता - पिता बच्चों को घर से निका

भारतीय परिवारों का साम्राज्यवाद और स्त्री

चित्र
क्या पिक्चर परफेक्ट जैसी कोई चीज होती है? एकल परिवार, संयुक्त परिवार, रिश्ते, त्याग, बलिदान, समझौता, एडजस्टमेंट...बड़ी - बड़ी बातें पढ़ती आ रही हूँ, सुनती आ रही हूँ। संयुक्त परिवार की परम्परा को तोड़ने का ठीकरा मजे से स्त्रियों पर फोड़ दिया गया लेकिन परिवार संयुक्त हो या एकल हो, दबकर रहने की उम्मीद, त्याग करने की उम्मीद स्त्रियों से ही होती है। कभी अपने एल्बम को खोलिए और एकदम पुरानी तस्वीर देखिए...बॉडी लैंग्वेज से समझ आ जाएगा कि परिवार में स्त्री की स्थिति क्या रही है। लम्बा घूंघट ओढ़े बहू, डरी - सहमी बच्चियाँ, और शान से किसी राजा - महाराजा की तरह खड़े होते लड़के.....भारतीय परिवार आज भी उसी कल्पना में जीते हैं और यही उम्मीद भी करते हैं। लड़कों की इच्छाओं में सही या गलत नहीं खोजा जाता, उसकी गलतियाँ नहीं देखी जातीं, बस उसकी पसन्द का ख्याल रखा जाता है, सास बहू के पीछे पड़ी रहती है कि उसके बेटे को कष्ट न हो, ननद भाभी को परेशान करती है कि उसके भाई को तकलीफ न हो, और भाभी ननद के पीछे पड़ी रहती है कि उसके बच्चों, खासकर बेटों और पति को लेकर कोई ऐसी - वैसी बात न कही जा सके। भारतीय परिवार पुरुषों