पोस्ट

अप्रैल, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मंदारमनी और सरप्राइज पार्टी वाली यादें...

इमेज
  हाँ...घूमना तो पसन्द है और समन्दर से बहुत लगाव है...ऐसा लगता है कि जैसे वह हर बार बुलाता रहा है...कोरोना के प्रकोप के कारण कोलकाता के बाहर निकलना नहीं हुआ। इस बार भी जाना लगभग अचानक ही हुआ,,,पिछले कुछ दिनों से कोरोना से परेशान उकताए लोगों को सोशल मीडिया पर तस्वीरें चिपकाते देख रही थी...तब भी मन नहीं हुआ। इसके पहले अपनी सहेली नीलम के साथ जा चुकी थी मंदारमनी....फिर क्यों...ऐसा लगा कि बस अब...निकल ही पड़ना चाहिए...तो हम निकल पड़े और मौका भी ऐसा मिल गया।  अप्रैल में आता है जन्मदिन हमारा...इस बार हमने अनायास मन बना लिया कि कुछ अपने लिए स्पेशल करना है...खुद को दुलार करना है....पहले अकेले जाने की ही तैयारी थी...लेकिन फिर लगा...कि इस बार भी किसी दोस्त को साथ लिया जायेगा औऱ यह निर्णय चामत्कारिक ही था...दरअसल, कहीं बाहर न निकल पाने के कारण कुछ अच्छा नहीं लग रहा था और लग रहा था कि एक मी टाइम बहुत जरूरी हो गया है। पापिया....जिसे सब पीहू पापिया...के नाम से जानते हैं....मैंने...उसे कारण भी बता दिया...वह नौकरी भी करती है तो व्यस्तता भी थी....लेकिन घुमक्कड़ वह भी अपने जैसी ही है औऱ मेरी तुलना में तो